कोरोना से हुई पूर्णिया आइजी विनोद कुमार की मौत , महकमे में हड़कंप



रिपोर्ट - पंकज भारतीय

पूर्णिया / पूर्णिया प्रक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक विनोद कुमार का शनिवार की रात 11.40 बजे पटना स्थित एम्स में निधन हो गया ।कोरोना की वजह से बिहार में किसी बड़े अधिकारी की यह पहली मौत मानी जा रही है ।लिहाजा ,पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है ।दरअसल पूर्णिया में ही उनमें कोरोना के लक्षण की पहचान हुई थी और गंभीर स्थिति को देखते हुए उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था ,जहां उन्होंने अंतिम सांसे ली ।हालांकि ,एम्स ने जारी बयान में कहा है कि उनकी दूसरी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई थी और उनकी मौत की वजह हार्ट अटैक रहा ।
          स्वर्गीय कुमार 20 अगस्त 2019 को पूर्णिया के आईजी बनाये गए थे ।इससे पहले वे भागलपुर रेंज के आईजी रहे थे ।वर्ष 1983 में बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास कर  बिहार पुलिस सेवा के लिए चयनित होने वाले विनोद कुमार उस समय पटना यूनिवर्सिटी से फिजिक्स में स्नातकोत्तर कर रहे थे ।बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले विनोद बचपन से ही काफी मेधावी थे ।उन्होंने आईएससी बी एन कॉलेज पटना और बीएससी साइंस कॉलेज पटना से किया था ।वे मूल रूप से नालंदा जिला के निवासी थे ।वे अपने पीछे पत्नी के अलावा दो बेटियां छोड़ गए हैं ।
           बिहार पुलिस सेवा से भारतीय पुलिस सेवा तक का सफर तय करने वाले विनोद कुमार अपनी बेबाकी की वजह से  राजनेताओं और अधिकारियों की आंखों की किरकिरी अक्सर बन जाया करते थे । वे 2001 बैच के आईपीएस थे ।सहरसा और सुपौल में बतौर एसपी और दरभंगा में डीआईजी के रूप में उनका कार्यकाल सराहनीय रहा ।बतौर पूर्णिया आईजी आम लोगों और पीड़ितों के बीच उन्होंने अपनी छवि सर्व सुलभ की बनाई थी ,इसलिए उनके कार्यालय में पीड़ितों की भीड़ लगी रहती थी ।दूसरी और कोरोना से उनकी मौत से यह बात भी स्पष्ट हो गया है कि कोरोना का संकट पूरी मजबूती से उपस्थित है और   विधानसभा चुनाव के लिए चुनौती भी है ।





Related Post