श्रम अधीक्षक सह उपकर संग्रहक 55 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए अनुसेवक के साथ निगरानी के हाथों हुआ गिरफ्तार ।


 

रिपोर्ट - पंकज भारतीय 

पूर्णिया /बीते वर्ष जिला कृषि पदाधिकारी शंकर झा की निगरानी के हाथों गिरफ्तारी के बाद अब शुक्रवार की दोपहर बियाडा मरंगा स्थित श्रमाधीक्षक कार्यालय से जिले के श्रम अधीक्षक सह  उपकर संग्रहक कुमार आलोक रंजन को 55 हजार रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है । श्री रंजन के साथ कार्यालय के अनुसेवक मनोज कुमार को भी गिरफ्तार किया गया है ।इस मामले में पटना निगरानी थाना में कांड संख्या 27 /21 दर्ज किया गया है ।गिरफ्तार श्री रंजन और मनोज को पूछताछ के लिए पटना ले जाया गया है ,जहां से शनिवार को दोनों को निगरानी न्यायालय भागलपुर में पेश किया जाएगा ।निगरानी धावा दल का नेतृत्व डीएसपी अरुण पासवान कर रहे थे।
          श्री पासवान के अनुसार , यूपी के फरीदाबाद के निवासी विजय कुमार   बेलौरी स्थित मा अंबे इंटर प्राइजेज में एचआर मैनेजर हैं । इस कंपनी का नक्शा विधिवत पारित नही था ।श्रम कार्यालय से इस कंपनी को 18 मार्च को नोटिस भेजकर उपकर मद में 01 लाख 99 हजार रुपये जमा करने का निर्देश दिया गया ।24 अप्रैल को मैनेजर श्री कुमार उक्त राशि का डिमांड ड्राफ्ट लेकर कार्यालय गए तो श्रम अधीक्षक ने ड्राफ्ट लेने से इनकार करते हुए अनुसेवक मनोज कुमार से मिलने को कहा ।अनुसेवक ने श्री कुमार से रिश्वत के मद में श्रम अधीक्षक के लिए 50 हजार रुपए और खुद के लिए 05 हजार की मांग किया। मामले की शिकायत श्री कुमार ने 30 जून को निगरानी विभाग में दर्ज कराया ।मामले की जांच की गई तो सत्य पाया गया।उंसके बाद धावा दल का गठन कर कार्रवाई की गई और गिरफ्तारी हुई ।





Related Post